मंदिर में चप्पल न पहनने के पीछे वैज्ञानिक कारण भी हैं

hulchalnews
1 0
Read Time:6 Minute, 31 Second

न केवल हिंदू परंपराओं में, बल्कि अन्य जाति धर्मों में भी कुछ रीति-रिवाज हैं जो प्राचीन काल से ही देखे जाते रहे हैं। जब हिंदू रीति-रिवाजों और परंपराओं की बात आती है, तो हम हर मामले में एक पद्धति पर भरोसा करते हैं।

कई बार हम बुजुर्गों द्वारा बनाई गई परंपराओं पर बिना सवाल उठाए ही चलते आए हैं, इसका मुख्य कारण यह है कि बुजुर्गों ने जो भी परंपरा बनाई है, उसके पीछे न सिर्फ दैवीय कारण है बल्कि वैज्ञानिक कारण भी है।

मंदिरों में जूते पहनना वर्जित है!

हर मंदिर में यह बोर्ड नहीं लगा होता कि जूते उतारकर अंदर प्रवेश करें। हालाँकि, जब मंदिर की बात आती है, तो स्वाभाविक रूप से हर व्यक्ति अपने जूते उतारता है, पैर धोता है और मंदिर में प्रवेश करता है। यह सिर्फ एक प्रथा नहीं है बल्कि इसके पीछे कई वैज्ञानिक कारण भी हैं। तो आइए देखें मुख्य कारण कि क्यों हमें मंदिर में प्रवेश करने से पहले अपने जूते उतारने चाहिए।

स्वच्छता का मुद्दा!

हम पैरों में जूते क्यों पहनते हैं? क्योंकि सड़क पर मौजूद गंदगी, धूल और कचरा हमारे पैरों पर नहीं चिपकना चाहिए. इसलिए हम घर से बाहर जाते समय जूते पहनते हैं और घर में प्रवेश करने से पहले जूते भी उतारते हैं और घर के अंदर कदम रखते हैं। ये सिर्फ एक प्रथा या मूर्खतापूर्ण अनुष्ठान नहीं है. इससे वायरस को घर में प्रवेश करने से रोककर संक्रामक रोगों को फैलने से रोका जा सकता है।

इसी वजह से मंदिर में भी चप्पल पहनकर नहीं जाना चाहिए। जूते पहनकर मंदिर में प्रवेश न करने का एक कारण यह भी है कि हमें बाहर से गंदगी या धूल लाकर मंदिर के अंदर गंदा नहीं करना चाहिए।

सकारात्मक ऊर्जा!

यह वैज्ञानिक रूप से सिद्ध है कि मंदिर के अंदर सकारात्मक ऊर्जा होती है। इसलिए जब हम अपने जूते उतारकर मंदिर में प्रवेश करते हैं, तो मंदिर में मौजूद सकारात्मक ऊर्जा हमारे पैरों के माध्यम से शरीर की प्रत्येक कोशिका में प्रवाहित होती है। इससे हमारे अंदर की नकारात्मकता दूर होती है और सकारात्मक तत्व हमारे शरीर में प्रवेश करते हैं जिससे न केवल शरीर स्वस्थ रहता है बल्कि मन भी प्रसन्न रहता है।

मन की शांति!

हम मंदिर के बाहर अपने जूते उतारते हैं और प्रवेश करने से पहले अपने हाथ-पैर साफ करते हैं और फिर मंदिर के अंदर जाते हैं। आमतौर पर मंदिर के अंदर जाते समय सीढ़ियों से प्रवेश करना पड़ता है। सीढ़ियाँ चढ़ते समय सीढ़ियों को हाथों से छूने और झुकने की प्रथा है ताकि हमारे पैर और हाथ मंदिर की सीढ़ियों को छू सकें। इससे मंदिर में मौजूद ऊर्जा हमारे शरीर में स्थानांतरित हो जाती है। इससे शरीर की ताकत बढ़ती है। सीढ़ियों को छूते हुए सिर झुकाने से सकारात्मकता का प्रभाव हमारे मस्तिष्क पर भी पड़ता है। तो यह कहा जा सकता है कि जूते उतारकर मंदिर जाने से हमारे शरीर और दिमाग दोनों में एक अद्भुत ऊर्जा का संचार होता है।

अहिंसक हिंदुत्व!

एक और मुख्य कारण है कि मंदिर में प्रवेश करने के लिए जूते क्यों उतारने चाहिए। यह एक ऐसी प्रथा है जो काफी समय से चली आ रही है. सैकड़ों वर्ष पहले जूते अधिकतर चमड़े के बने होते थे। हिंदू अहिंसक हैं. इस पृष्ठभूमि में किसी भी जानवर को मारना और उससे बने जूते पहनकर मंदिर में प्रवेश करना वर्जित था। यह हिंदुओं के अहिंसा के सिद्धांत के विरुद्ध था। इसी के चलते यह नियम बनाया गया है कि मंदिर के अंदर चमड़े के सैंडल या जूते पहनकर प्रवेश नहीं करना चाहिए। इसी कारण हम आज भी इस प्रथा का पालन करते आ रहे हैं।

मंदिर में चप्पल उतारकर प्रवेश करना कोई अंधविश्वास या प्रथा नहीं है जिस पर हम आंख मूंदकर विश्वास कर लेते हैं। इसके पीछे कई वैज्ञानिक कारण भी हैं। इस बात को डॉक्टर और वैज्ञानिक भी मान चुके हैं। इस लिहाज से मंदिर या देवस्थान और मजार में प्रवेश करने से पहले जूते उतार देने चाहिए।

यह सिर्फ एक भारतीय उत्सव नहीं है!

वैसे जूते उतारकर मंदिर में प्रवेश करना सिर्फ भारत में ही नहीं बल्कि विदेशों में भी ये प्रथा चल रही है. सिर्फ मंदिर ही नहीं बल्कि कुछ चर्च और मस्जिदों में भी प्रवेश से पहले जूते उतरवाए जाते हैं। जापानी परंपरा के अनुसार, न केवल मंदिरों में बल्कि दूसरे लोगों के घरों में भी प्रवेश करने से पहले जूते उतारने की प्रथा आज भी प्रचलित है।

कुल मिलाकर हमें अपने शरीर में सकारात्मक ऊर्जा बढ़ानी चाहिए और जिस वातावरण में हम रहते हैं उसे स्वच्छ रखना चाहिए, जूते उतारकर मंदिरों में प्रवेश करने में कुछ भी गलत नहीं है और यह सिर्फ एक गोदडू अनुष्ठान नहीं है।

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
100 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

भारतीय जनता पार्टी विधायक दल की बैठक के दौरान पार्टी वरिष्ठ नेतागणों ने दीप प्रज्जवलित कर बैठक का शुभारंभ किया

भोपाल ।   भारतीय जनता पार्टी प्रदेश कार्यालय में नवनिर्वाचित विधायक दल की बैठक से पहले फोटो सेशन हुआ। इस दौरान पार्टी के राष्ट्रीय सह संगठन महामंत्री श्री शिवप्रकाश जी, पर्यवेक्षकगण हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहरलाल खट्टर, पिछड़ा मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. के लक्ष्मण, पार्टी की राष्ट्रीय सचिव सुश्री आशा लाकड़ा, […]

You May Like

Subscribe US Now