विद्युत संविदा लाइनमैन कर्मियों में नाराजगी-निर्देश का विरोध प्रारंभ- विजय झा

hulchal news
1 0
Read Time:2 Minute, 36 Second


रायपुर। छत्तीसगढ़ विद्युत पावर वितरण कंपनी के संविदा लाइनमैन कर्मचारियों ने पूर्ववर्ती सरकार में लंबा आंदोलन कर विद्युत सुधार के दौरान दुर्घटनाग्रस्त लाइनमैन एवं उनके आश्रित परिवार को कंपनी में अनुकंपा नियुक्ति देने, मुआवजा देने, व रिक्त पदों पर नियमितीकरण की मांग के लिए लंबा आंदोलन किए थे। तब सरकार ने सिर फुटने तक मारपीट कर बूढ़ातालाब धरना स्थल से खदेड़ा था। कर्मचारी नेता विजय कुमार झा ने कहा है कि लाइनमैन लोगों के साथ पूर्ववर्ती सरकार के अन्याय के खिलाफ भाजपा सरकार बनाने में महती भूमिका अदा की गई है। अब पुनः नवगठित सरकार में लाइनमैन के दुर्घटनाग्रस्त होने, दिव्यांग होने पर उसे नौकरी से निकलने संबंधी अमानवीय, असंवेदनशील निर्णय नवनिर्वाचित सरकार में विद्युत मंडल कंपनी द्वारा लिया गया है। वर्तमान में 6000 से अधिक लाइनमैन के पद रिक्त हैं, उसे नियमित घोषित कर नियमितीकरण किया जाना चाहिए। श्री झा ने कहा है कि 24 घंटा आर्थिक लाभ पाने वाला विद्युत वितरण कंपनी जिनके बदौलत आर्थिक लाभ गृहित करता है, उनके साथ अन्याय कर रही है। जबकि बूढ़ा तालाब में 25000 संविदा अनियमित विद्युत मंडल कर्मचारी के नियमितीकरण के मांग के समर्थन में भाजपा के अनेक नेता विपक्ष में रहते हुए बूढ़ा तालाब धरना स्थल गए थे तथा भूपेश बघेल सरकार के अत्याचार का विरोध किए थे। श्री झा ने लोकसभा चुनाव की घोषणा होने के समय लिए गए कर्मचारी विरोधी, दिव्यांग विरोधी आदेश को तत्काल वापस लिये जाने तथा लोकसभा चुनाव के बाद रिक्त पदों पर विद्युत मंडल की ठेका संविदा कर्मचारियों का नियमितीकरण करने की मांग मुख्यमंत्री श्री विष्णुदेव साय से की है।

Happy
Happy
100 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

अब आठवें वेतनमान की घोषणा व 50% महंगाई भत्ता मूल वेतन में जोड़ना चाहिए-विजय झा

रायपुर। केंद्रीय सरकार द्वारा भारत के समस्त शासकीय कर्मचारियों,अर्थ शासकीय स्वायत्तशासी, निगम मंडलों आदि में 1 जनवरी 2016 से सातवां वेतनमान लागू किया गया था। अब चूंकि महंगाई भत्ता 50% हो चुका है। ऐसी स्थिति में आठवें वेतनमान की घोषणा तथा महंगाई भत्ता को मूल वेतन में जोड़ने का निर्णय […]

You May Like

Subscribe US Now