मसल्स और हड्डियों को कमजोर बना देता है इस तरह का खाना, फ्रैक्चर का बढ़ जाता है खतरा, स्टडी में हुआ खुलासा

hulchalnews
1 0
Read Time:5 Minute, 19 Second

आज के समय में लोग शाकाहारी खाने की तरफ ज्यादा आकर्षित हो रहे हैं. वहीं कुछ लोग वीगन बन रहे हैं इसका मतलब कि वो सिर्फ प्लांट बेस्ड फूड्स का ही सेवन कर रहे हैं. एनवायरमेंट और हेल्थ कारणों की वजह से ही लोग आज के समय में वेजिटेरियन डाइट शिफ्ट में कर रहे हैं. कई स्टडी में भी सामने आया है कि शाकाहारी फूड सेहत के लिए जरूरी पोषक तत्वों को आसानी से प्राप्त करने में सहायक होता है, साथ ही इनके सेवन से कोलेस्ट्रॉल और ब्लड शुगर जैसी समस्याओं का जोखिम भी कम हो सकता है.

यही वजह है कि लोगों का रूझान इसकी तरफ ज्यादा बढ़ रहा है. लेकिन अगर हम कहें कि नॉनवेज खाने वाले लोग ज्यादा सेहतमंद होते हैं तो आपको कैसा लगेगा. दरअसल ऐसा हम नहीं कर रहे हैं बल्कि हाल ही में यूके में हुई स्टडी में ये बात सामने आई है जिसके अनुसार शाकाहारी लोगों की तुलना में मासांहारी लोग ज्यादा सेहतमंद होते हैं और उनकी हड्डियां ज्यादा मजबूत होती हैं. एक उम्र के बाद मांसाहारी खाना खाने वाली महिलाएं को शाकाहारी खाने वाली महिलाओं की तुलना में फ्रैक्चर होने का खतरा कम हो सकता है.

26 हजार महिलाओं पर हुई रिसर्च
26,000 से ज्यादा ब्रिटेन की महिलाओं पर हुए एक अध्ययन से पता चलता है कि हर रोज नॉनवेज खाने वालों की तुलना में वेजिटेरियन खाने वालों में हिप फ्रैक्चर का जोखिए 33 प्रतिशत ज्यादा होता है.

बीएमसी मेडिसिन पत्रिका में प्रकाशित विश्वविद्यालय की स्टडी में हर रोज नॉनवेज खाने वालों की तुलना में कभी-कभी मांस खाने वालों, पेस्केटेरियन (जो लोग मछली खाते हैं लेकिन मीट नहीं) और शाकाहारियों में हिप फ्रैक्चर के जोखिम की जांच की गई.
यह नई स्टडी शाकाहारियों और मांस खाने वालों में हिप फ्रैक्चर के जोखिम की तुलना करने वाले बहुत कम अध्ययनों में से एक है जहां अस्पताल के रिकॉर्ड से हिप फ्रैक्चर की पुष्टि हुई थी.

26,000 से ज्यादा ब्रिटेन की महिलाओं पर हुए एक अध्ययन से पता चलता है कि हर रोज नॉनवेज खाने वालों की तुलना में वेजिटेरियन खाने वालों में हिप फ्रैक्चर का जोखिए 33 प्रतिशत ज्यादा होता है.

बीएमसी मेडिसिन पत्रिका में प्रकाशित विश्वविद्यालय की स्टडी में हर रोज नॉनवेज खाने वालों की तुलना में कभी-कभी मांस खाने वालों, पेस्केटेरियन (जो लोग मछली खाते हैं लेकिन मीट नहीं) और शाकाहारियों में हिप फ्रैक्चर के जोखिम की जांच की गई.

यह नई स्टडी शाकाहारियों और मांस खाने वालों में हिप फ्रैक्चर के जोखिम की तुलना करने वाले बहुत कम अध्ययनों में से एक है जहां अस्पताल के रिकॉर्ड से हिप फ्रैक्चर की पुष्टि हुई थी.

वेजिटेरियन्स में हड्डियों के कमजोर होने का खतरा क्यों?
हालांकि इस मामले में अभी और अध्ययन की जरूरत है. उनका अनुमान है कि गिरने और फ्रैक्चर से हड्डियों और मांसपेशियों के टूटने का खतरा ज्यादा इसलिए हो रहा है क्योंकि शाकाहारी लोगों को अच्छी डाइट नहीं मिल पा रही है.

लीड्स विश्वविद्यालय के शोधकर्ता डॉ. जेम्स वेबस्टर ने कहा कि वेजिटेरियन्स को डाइट समय से लेनी चाहिए और अपने खाने में उन न्यूट्रिएंट्स को एड करना चाहिए, जो मसल्स के साथ हड्डियों को भी हेल्दी रखें. माना ये जाता है कि वेजिटेरियन फूड नॉनवेजिटेरियन से ज्यादा हेल्दी होता है क्योंकि ये डायबिटीज, मोटापा, दिल की समस्याओं और कैंसर के खतरे को कम कर सकता है, लेकिन लोगों हेल्दी रहने के लिए अपनी डाइट को बैलेंस रखना चाहिए. हिप फ्रैक्चर का खतरा ज्यादातर बुढ़ापे में और उन लोगों को होता है जो शारीरिक रूप से कमजोर होते हैं.

Happy
Happy
100 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

पहले दिन ही नहीं दूसरे दिन भी 'द केरल स्टोरी' ने की बंपर कमाई, जानें क्या रहा आंकड़ा

नई दिल्ली: बॉलीवुड के दिग्गज एक्टर सलमान खान और ऐश्वर्या राय की बॉक्स ऑफिस रिलीज के बीच द केरल स्टोरी अच्छा कलेक्शन करती हुई नजर आ रही है. जहां फिल्म ने पहले ही दिन 8 करोड़ से ज्यादा की कमाई करके फैंस का दिल जीता था तो वहीं सेलेब्स द्वारा […]

You May Like

Subscribe US Now